किन दो नदियों से मिलकर बनी है दुनिया की सबसे लंबी नदी, जानें

धरती पर जीवन जीने के लिए नदियों का अधिक महत्व है नदियों के माध्यम से हमें कृषि, पीने के पानी की आपूर्ति और अन्य प्रकार की जरूरतें पूरी होती हैं। इसके साथ ही नदियों का अपना पारिस्थितिकी तंत्र होता है, जिसके माध्यम विभिन्न प्रकार की जैव विविधता को जन्म मिलता है।

आपने भारत में विभिन्न नदियों के बारे में पढ़ा और सुना होगा। हालांकि, क्या आपको दुनिया की सबसे लंबी नदी के बारे में पता है। इसके साथ ही यह क्या इस संबंध में जानकारी है कि यह नदी किन दो नदियों से मिलकर बनी है।

यदि नहीं, तो इस लेख के माध्यम से हम दुनिया के सबसे लंबी नदी और इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में जानेंगे। 

कौन- सी है दुनिया की सबसे लंबी नदी 

दुनिया में कई नदियां बह रही हैं, हालांकि इनमें से सबसे लंबी नदी उत्तर-पूर्वी अफ्रीका में बहने वाली नील नदी है। इस नदी को दुनिया की सबसे लंबी नदी का दर्जा प्राप्त है, जो कि अपने अधिक लंबाई के लिए जानी जाती है। यह नदी हजारों किलोमीटर की यात्रा पूरी करती है। 

कितने किलोमीटर तक बहती है दुनिया की सबसे लंबी नदी 

दुनिया की सबसे लंबी नील नदी की लंबाई 6650 किलोमीटर है यानी कि यह 4132 मील लंबी है। 

See also  Architect's optical illusion: man inside or outside?

 

कहां से निकलती है यह नदी

दुनिया की सबसे लंबी नदी पूर्वी अफ्रीका में विक्टोरिया झील से निकलती है और यहां से निकलने के बाद यह सहारा मरुस्थल के पूर्वी भाग से गुजरते हुए उत्तर में स्थित भूमध्य सागर में जाकर मिल जाती है। 

 

किन देशों से गुजरती है यह नदी 

आपको बता दें कि नील नदी दुनिया के कई देशों से होकर गुजरती है, जिसमें बुरुंडी, इथियोपिया, इरिट्रिया, युगांडा, तंजानिया, सूडान, केन्या, मिस्र, दक्षिण सूडान, रवांडा और रिपब्लिक ऑफ कांगो शामिल है।

 

किन दो नदियों से मिलकर बनती है नील नदी 

नील नदी दो अलग-अलग अपनी सहायक नदियों से मिलकर बनती है, जिसमें इसकी पहली सहायक नदी सफेद नील है, जोकि दक्षिण सूडान से शुरू होती है वहीं, एक अन्य नदी नीली नील नदी है, जो कि इथियोपिया से शुरू होती है।

यह दोनों नदियां आपस में सूडान में जाकर मिल जाती है, जिसके बाद यह नदी मिस्र से होते हुए लगातार उत्तर दिशा की तरफ बहती है और अंत में भूमध्य सागर में जाकर मिल जाती है। 

 

मगरमच्छों के लिए भी जानी जाती है यह नदी 

नील नदी न सिर्फ इंसानों के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि यह जानवरों के लिए भी महत्वपूर्ण है। विशेषकर इसके पानी में रहने जीवो के लिए भी यह महत्वपूर्ण है।

इस नदी में आपको कछुआ, दरियाई घोड़ा और नील मगरमच्छ भी देखने को मिलेगा। यही वजह है कि इस नदी की गिनती मगरमच्छ वाली नदियों में की जाती है।

 

पढ़ेंः जानें कौन सी है भारत की सबसे लंबी नदी

See also  Teej 2023: Is Hartalika Teej on September 17 or 18? Check Exact Date, Shubh Muhrat, Story, Significance

 

Categories: Trends
Source: newstars.edu.vn

Rate this post

Leave a Comment